जब शुरू हुई थी, मोहब्बत अपनी किताबों से। तेरे घर आना और, किताबों में वो letter, …

जब शुरू हुई थी,
मोहब्बत अपनी किताबों से।
तेरे घर आना और,
किताबों में वो letter,
छुपाकर तुझे दे जाना।
याद हैं वो पुरानी बातें,
या भुला दिया है सबकुछ।

– Rohtash Maurya
#शायरी #poetry #shayari #rohtash_maurya
जब शुरू हुई थी,
मोहब्बत अपनी किताबों से।
तेरे घर आना और,
किताबों में वो letter,

जब शुरू हुई थी,
मोहब्बत अपनी किताबों से।
तेरे घर आना और,
किताबों में वो letter,
छुपाकर तुझे दे जाना।
याद हैं वो पुरानी बातें,
या भुला दिया है सबकुछ।

– Rohtash Maurya
#शायरी #poetry #shayari #rohtash_maurya
#जब #शर #हई #थमहबबत #अपन #कतब #सतर #घर #आन #औरकतब #म #व #letter

Twitter shayarish by Rohtash Maurya

Leave a Reply