जब भी निकल परता हु इन बिरान गलियों में मुझे तेरी कदमों के निशान नज़र आते है ।। …

जब भी निकल परता हु इन बिरान गलियों में

मुझे तेरी कदमों के निशान नज़र आते है ।।

सब कुछ टूटा फूटा परा है
फिर भी ना जाने क्यू
ये जज़्बात तेरे वापस आने के इन्तज़ार में बैठे रहते है।।

#शायरी
#quotes
#poem
#हिंदी_शब्द
जब भी निकल परता हु इन बिरान गलियों में

मुझे तेरी कदमों के निशान नज़र आते है ।।

जब भी निकल परता हु इन बिरान गलियों में

मुझे तेरी कदमों के निशान नज़र आते है ।।

सब कुछ टूटा फूटा परा है
फिर भी ना जाने क्यू
ये जज़्बात तेरे वापस आने के इन्तज़ार में बैठे रहते है।।

#शायरी
#quotes
#poem
#हिंदी_शब्द
#जब #भ #नकल #परत #ह #इन #बरन #गलय #ममझ #तर #कदम #क #नशन #नजर #आत #ह

Twitter shayarish by Bestquotes65