You are currently viewing गये थे यह सोचकर की बात अपने बचपन की होगी,
वहाँ पता चला कि दोस्त अपनी तरक्की बतान…
-थे-यह-सोचकर-की-बात-अपने-बचपन-की-होगी

गये थे यह सोचकर की बात अपने बचपन की होगी, वहाँ पता चला कि दोस्त अपनी तरक्की बतान…

गये थे यह सोचकर की बात अपने बचपन की होगी,
वहाँ पता चला कि दोस्त अपनी तरक्की बताने बुलाये है।
#दोस्त #बचपन #तरक्की #शायरांश #शायरी #हिंदी_शब्द #shayari @_Ladwa @_hindi__ @BotsHindi @HindiLekh_In @kavitaaGhar @Kavi_Ghar1 #FriendsFest #quotes @Kavishala_Hindi @Hindi_panktiyan #dost https://t.co/6PCYhnKMHs
गये थे यह सोचकर की बात अपने बचपन की होगी,
वहाँ पता चला कि दोस्त अपनी तरक्की बतान…

गये थे यह सोचकर की बात अपने बचपन की होगी,
वहाँ पता चला कि दोस्त अपनी तरक्की बताने बुलाये है।
#दोस्त #बचपन #तरक्की #शायरांश #शायरी #हिंदी_शब्द #shayari @_Ladwa @_hindi__ @BotsHindi @HindiLekh_In @kavitaaGhar @Kavi_Ghar1 #FriendsFest #quotes @Kavishala_Hindi @Hindi_panktiyan #dost https://t.co/6PCYhnKMHs
#गय #थ #यह #सचकर #क #बत #अपन #बचपन #क #हगवह #पत #चल #क #दसत #अपन #तरकक #बतन

Twitter shayarish by Lokesh Kumar Meena

Leave a Reply