क्या पाया मैंने सदियों की मोहब्बत से ,., एक शायरी का हुनर ,दूसरा जागने कि सजा ,….

क्या पाया मैंने सदियों की मोहब्बत से ,.,
एक शायरी का हुनर ,दूसरा जागने कि सजा ,.,!!
क्या पाया मैंने सदियों की मोहब्बत से ,.,
एक शायरी का हुनर ,दूसरा जागने कि सजा ,….

क्या पाया मैंने सदियों की मोहब्बत से ,.,
एक शायरी का हुनर ,दूसरा जागने कि सजा ,.,!!
#कय #पय #मन #सदय #क #महबबत #स #एक #शयर #क #हनर #दसर #जगन #क #सज

Twitter shayarish by Saurabh Singh 🇮🇳

Leave a Reply