कोई शायरी ही नहीं बन रही . . लगता है तुमको हम भूल ही गए…

[ad_1]

कोई शायरी ही नहीं बन रही
.
.
लगता है तुमको हम भूल ही गए
[ad_2]

Source by दर-बदर