You are currently viewing कुछ यादें बन चुकी हैं
कोरोना के जुकाम की तरह

ये शायरी अब
सेनेटाइज़र का काम नहीं…
कुछ-यादें-बन-चुकी-हैं-कोरोना-के-जुकाम-की-तरह

कुछ यादें बन चुकी हैं कोरोना के जुकाम की तरह ये शायरी अब सेनेटाइज़र का काम नहीं…

[ad_1]

कुछ यादें बन चुकी हैं
कोरोना के जुकाम की तरह🍁🦋

ये शायरी अब
सेनेटाइज़र का काम नहीं करती🍁🦋

🤧🤧
@𝙎𝙐𝙃𝘼𝙉𝙄_𝙎𝘼𝙍𝙂𝘼𝙈🦋 https://t.co/uyr0XiCUGz
[ad_2]

Source by ~🌱सुहानी🌹सरगम🌱~

Leave a Reply