किस ज़माने के लोग थे जो ज़माने देखे हैं, मुझसे तो ये अपनी दुनिया देखी नहीं जाती,…

[ad_1]

किस ज़माने के लोग थे जो ज़माने देखे हैं,
मुझसे तो ये अपनी दुनिया देखी नहीं जाती,
#विपुलतिवारी
#हिंदी_शब्द
#शायरांश #शायरी
#बज़्म
[ad_2]

Source by विकास तिवारी