कितना दुश्वार है जज़्बों की तिजारत करना एक ही शख़्स से दो बार मोहब्बत करना जिस …

कितना दुश्वार है जज़्बों की तिजारत करना
एक ही शख़्स से दो बार मोहब्बत करना

जिस को तुम चाहो कोई और न चाहे उस को
इस को कहते हैं मोहब्बत में सियासत करना

– लियाकत जाफ़री

#शायरी #उर्दू #हिंदी #Shayariquotes #shayri #urdupoetry #15August #SaturdayMood #night
कितना दुश्वार है जज़्बों की तिजारत करना
एक ही शख़्स से दो बार मोहब्बत करना

जिस …

कितना दुश्वार है जज़्बों की तिजारत करना
एक ही शख़्स से दो बार मोहब्बत करना

जिस को तुम चाहो कोई और न चाहे उस को
इस को कहते हैं मोहब्बत में सियासत करना

– लियाकत जाफ़री

#शायरी #उर्दू #हिंदी #Shayariquotes #shayri #urdupoetry #15August #SaturdayMood #night
#कतन #दशवर #ह #जजब #क #तजरत #करनएक #ह #शखस #स #द #बर #महबबत #करनजस

Twitter shayarish by Benaam

Leave a Reply