You are currently viewing काश हम भी होते
गालिब की तरह
शायरी के इक्का 
हम भी तुझे रुलाते 
तेरे बेवफ़ाई के
श…
-हम-भी-होते-गालिब-की-तरह-शायरी-के-इक्का

काश हम भी होते गालिब की तरह शायरी के इक्का हम भी तुझे रुलाते तेरे बेवफ़ाई के श…

काश हम भी होते
गालिब की तरह
शायरी के इक्का
हम भी तुझे रुलाते
तेरे बेवफ़ाई के
शेर सुना सुना कर
मै चाहूँ भी तो
ना लिख पाऊंगा
उन लफ्जों को
जिन्हें पढ कर
तुम जान सको
मुझे तुमसे
कितनी मोहब्बत हैं..!!
#सरस #मनीष https://t.co/HgrhmL3IbK
काश हम भी होते
गालिब की तरह
शायरी के इक्का
हम भी तुझे रुलाते
तेरे बेवफ़ाई के
श…

काश हम भी होते
गालिब की तरह
शायरी के इक्का
हम भी तुझे रुलाते
तेरे बेवफ़ाई के
शेर सुना सुना कर
मै चाहूँ भी तो
ना लिख पाऊंगा
उन लफ्जों को
जिन्हें पढ कर
तुम जान सको
मुझे तुमसे
कितनी मोहब्बत हैं..!!
#सरस #मनीष https://t.co/HgrhmL3IbK
#कश #हम #भ #हतगलब #क #तरहशयर #क #इकक #हम #भ #तझ #रलत #तर #बवफई #कश

Twitter shayarish by 🇮🇳Er. Manish Kumar Chaubey🇮🇳

Leave a Reply