कभी कभी तुम भी यहाँ आकर शायरी मेरी पढ़ते हो ना? एक मेसेज़ में वाह लिख दूँ, खु…

[ad_1]

कभी कभी तुम भी यहाँ आकर शायरी मेरी पढ़ते हो ना?

एक मेसेज़ में वाह लिख दूँ, खुद से यूँ लड़ते हो ना?
[ad_2]

Source by नाम जान के क्या करोगे..??

Leave a Reply