You are currently viewing *एक शायरी से ही है मुकम्मल दोस्ती हमारी…!!*

*जिस दिन शायरी ना हो फिर समझो ख़त…
-शायरी-से-ही-है-मुकम्मल-दोस्ती-हमारी-जिस-दिन

*एक शायरी से ही है मुकम्मल दोस्ती हमारी…!!* *जिस दिन शायरी ना हो फिर समझो ख़त…

*एक शायरी से ही है मुकम्मल दोस्ती हमारी…!!*

*जिस दिन शायरी ना हो फिर समझो ख़तम दोस्ती हमारी…!!* https://t.co/ufPjbCsSH3
*एक शायरी से ही है मुकम्मल दोस्ती हमारी…!!*

*जिस दिन शायरी ना हो फिर समझो ख़त…

*एक शायरी से ही है मुकम्मल दोस्ती हमारी…!!*

*जिस दिन शायरी ना हो फिर समझो ख़तम दोस्ती हमारी…!!* https://t.co/ufPjbCsSH3
#एक #शयर #स #ह #ह #मकममल #दसत #हमरजस #दन #शयर #न #ह #फर #समझ #खत

Twitter shayarish by आलोक

Leave a Reply