उर्दू शायरी पढ़ेंगे?? हर दिल के दरीचे से मसर्रत ही गुजरे,है नागुज़ीर ये भी नहीं…

उर्दू शायरी पढ़ेंगे😊😊??

हर दिल के दरीचे से मसर्रत ही गुजरे,है नागुज़ीर ये भी नहीं
रुदादे मोहब्बत का सिला हो वस्ल ही,रब का पैमान ये नहीं
हुजरे को मेरे मत टटोलो ,लिपटे उन्स में तुम्हारे खत मिलेंगे
दिल में ढेर हैं खस ओ खाशाक के ,एक शरर से जल उठेंगे

~अशोक मसरूफ़
#मसरूफ़ #बज़्म https://t.co/m4LZqwi2vj
उर्दू शायरी पढ़ेंगे??

हर दिल के दरीचे से मसर्रत ही गुजरे,है नागुज़ीर ये भी नहीं…

उर्दू शायरी पढ़ेंगे😊😊??

हर दिल के दरीचे से मसर्रत ही गुजरे,है नागुज़ीर ये भी नहीं
रुदादे मोहब्बत का सिला हो वस्ल ही,रब का पैमान ये नहीं
हुजरे को मेरे मत टटोलो ,लिपटे उन्स में तुम्हारे खत मिलेंगे
दिल में ढेर हैं खस ओ खाशाक के ,एक शरर से जल उठेंगे

~अशोक मसरूफ़
#मसरूफ़ #बज़्म https://t.co/m4LZqwi2vj
#उरद #शयर #पढगहर #दल #क #दरच #स #मसररत #ह #गजरह #नगजर #य #भ #नह

Twitter shayarish by Ashok Mushroof