You are currently viewing उठायेंगे फिर से उदासी का हम लुत्फ़
बिछड़ने का तुझ से इरादा करेंगे

हुई दोस्ती नी…
-फिर-से-उदासी-का-हम-लुत्फ़-बिछड़ने-का-तुझ

उठायेंगे फिर से उदासी का हम लुत्फ़ बिछड़ने का तुझ से इरादा करेंगे हुई दोस्ती नी…

उठायेंगे फिर से उदासी का हम लुत्फ़
बिछड़ने का तुझ से इरादा करेंगे

हुई दोस्ती नींद की ख़्वाब से गर
तो फिर रतजगे किस से झगड़ा करेंगे

~ गौतम राजऋषि

#गौतम_की_शायरी #UrduShayari #HindiShayari #Prem #Ishq #Shayari #Ghazal #GautamRajrishi #NeelaNeela #LovePoem #HindiBook #Poetry https://t.co/P5VOGW2qNa
उठायेंगे फिर से उदासी का हम लुत्फ़
बिछड़ने का तुझ से इरादा करेंगे

हुई दोस्ती नी…

उठायेंगे फिर से उदासी का हम लुत्फ़
बिछड़ने का तुझ से इरादा करेंगे

हुई दोस्ती नींद की ख़्वाब से गर
तो फिर रतजगे किस से झगड़ा करेंगे

~ गौतम राजऋषि

#गौतम_की_शायरी #UrduShayari #HindiShayari #Prem #Ishq #Shayari #Ghazal #GautamRajrishi #NeelaNeela #LovePoem #HindiBook #Poetry https://t.co/P5VOGW2qNa
#उठयग #फर #स #उदस #क #हम #लतफबछडन #क #तझ #स #इरद #करगहई #दसत #न

Twitter shayarish by गौतम की कलम से