You are currently viewing इस चमन के राहगीर थे जो गुज़र गए…! 
हमसे हमेशा के लिए अब बिछड़ गए..! 
~शाहनवाज़…
-चमन-के-राहगीर-थे-जो-गुज़र-गए-हमसे-हमेशा

इस चमन के राहगीर थे जो गुज़र गए…! हमसे हमेशा के लिए अब बिछड़ गए..! ~शाहनवाज़…

[ad_1]

इस चमन के राहगीर थे जो गुज़र गए…!
हमसे हमेशा के लिए अब बिछड़ गए..!
~शाहनवाज़ दरभंगवी

दरभंगा के इक अज़ीम शख्शियत जिन्हें उर्दू शायरी में महारत हासिल हैं, अब वो नहीं रहें…! अल्लाह घर वालों को सब्र दें! https://t.co/ZYXGtEzLua
[ad_2]

Source by Shahanawaz Darbhangavi