इश्क़ का होना भी लाजमी है शायरी के लिए वरना . कलम लिखती तो दफ्तर का बाबू भी गालि…

[ad_1]

इश्क़ का होना भी लाजमी है शायरी के लिए वरना
.
कलम लिखती तो दफ्तर का बाबू भी गालिब होता
[ad_2]

Source by saurabh misra

Leave a Reply