इजाज़त हो अगर तेरी तो खुद को आजमाऊँ मैं तुम्हारी नींद की खातिर कोई नग्मा सुनाऊँ…

[ad_1]

इजाज़त हो अगर तेरी तो खुद को आजमाऊँ मैं
तुम्हारी नींद की खातिर कोई नग्मा सुनाऊँ मैं
बृजेश कुमार ‘ब्रज’
#शुभ_रात्री #शायरांश #शायरी #बज़्म
[ad_2]

Source by बृजेश कुमार ‘ब्रज’🐦

Leave a Reply