You are currently viewing आसान बहुत है या आसानियां बहुत है,
कम्बख़्त ये दुश्वारियां बहुत है,

मसला ये है क…
-बहुत-है-या-आसानियां-बहुत-है-कम्बख़्त-ये-दुश्वारियां

आसान बहुत है या आसानियां बहुत है, कम्बख़्त ये दुश्वारियां बहुत है, मसला ये है क…

आसान बहुत है या आसानियां बहुत है,
कम्बख़्त ये दुश्वारियां बहुत है,

मसला ये है कि मसले में हैं,
निकलूँ तो जां जाए न निकलूँ तो जां जाए,

बिक रहे हैं इश्क़ फुटकरो में आज़कल,
बच्चे भी लगे हैं रौ में आजकल,
~विपुल तिवारी
#विपुलतिवारी
#शुभ_संध्या 💐
#हिंदी_शब्द #शायरी #बज़्म
#शायरांश https://t.co/ReOQllVli4
आसान बहुत है या आसानियां बहुत है,
कम्बख़्त ये दुश्वारियां बहुत है,

मसला ये है क…

आसान बहुत है या आसानियां बहुत है,
कम्बख़्त ये दुश्वारियां बहुत है,

मसला ये है कि मसले में हैं,
निकलूँ तो जां जाए न निकलूँ तो जां जाए,

बिक रहे हैं इश्क़ फुटकरो में आज़कल,
बच्चे भी लगे हैं रौ में आजकल,
~विपुल तिवारी
#विपुलतिवारी
#शुभ_संध्या 💐
#हिंदी_शब्द #शायरी #बज़्म
#शायरांश https://t.co/ReOQllVli4
#आसन #बहत #ह #य #आसनय #बहत #हकमबखत #य #दशवरय #बहत #हमसल #य #ह #क

Twitter shayarish by विकास तिवारी