You are currently viewing आदमी की पहचान उसके धन या आसन से नहीं होती, उसके मन से होती है। मन की फकीरी पर कु
-की-पहचान-उसके-धन-या-आसन-से-नहीं-होती

आदमी की पहचान उसके धन या आसन से नहीं होती, उसके मन से होती है। मन की फकीरी पर कु

[ad_1]

आदमी की पहचान उसके धन या आसन से नहीं होती, उसके मन से होती है। मन की फकीरी पर कुबेर की संपदा भी रोती है।
motivationalquotes ef="https://shayri.page/topics/quotes/">quotes #motivation #motivational #24x7motivation #quotes #inspiration #love #likeforlikes #Amazing #people #happy #confidence #truth #life #mindset #wealth https://t.co/347cAfTzQ3
[ad_2]

Source by Motivation 24×7

Leave a Reply