अनजान है वो मुझसे और मेरी मुहब्बत से, यहां मै उनके ख्वाबों का जहां बसा बैठा हूं….

[ad_1]

अनजान है वो मुझसे और मेरी मुहब्बत से,
यहां मै उनके ख्वाबों का जहां बसा बैठा हूं..।।
#विवेक_शायरी
[ad_2]

Source by ⚡ ♛ रांझणा ♕ ⚡

Leave a Reply