अंधेरी रातों में, सड़को पर एक #सन्नाटा छाया हैं। जब जब भी देखा ये मंज़र, ख़्या…

[ad_1]

अंधेरी रातों में, सड़को पर एक #सन्नाटा छाया हैं।
जब जब भी देखा ये मंज़र, ख़्याल तेरा सिर्फ़ तेरा ही आया हैं।।💞
#गज़ल
#बज़्म #शायरी
#शायरांश 🙏
[ad_2]

Source by 🇮🇳Mukesh Panchal🇮🇳

Leave a Reply