Tera Chehra Kitna Suhana Lyrics- Jagjit Singh, Unique

Title ~ तेरा चेहरा कितना सुहाना Lyrics
Movie/Album ~ यूनिक Lyrics- 1996
Music ~ जगजीत सिंह
Lyrics ~ कैफ भोपाली
Singer (s)~जगजीत सिंह

तेरा चेहरा कितना सुहाना लगता है
तेरे आगे चाँद पुराना लगता है

तिरछे तिरछे तीर नज़र के लगते हैं
सीधा सीधा दिल पे निशाना लगता है
तेरे आगे चाँद…

आग का क्या है पल दो पल में लगती है
बुझते बुझते एक ज़माना लगता है
तेरा चेहरा कितना सुहाना…

सच तो ये है फूल का दिल भी छलनी है
हंसता चेहरा एक बहाना लगता है
तेरा चेहरा कितना सुहाना…

माशूक का बुढ़ापा लज्ज़त दिला रहा है
अंगूर का मज़ा अब किशमिश में आ रहा है
बुझते बुझते…

Leave a Reply