Ek Parwaaz Dikhayi Lyrics Jagjit Singh, Marasim

Title~एक परवाज़ दिखाई Lyrics
Movie/Album~ मरासिम Lyrics 2000
Music~ जगजीत सिंह
Lyrics~ गुलज़ार
Singer(s)~ जगजीत सिंह

एक परवाज़ दिखाई दी है
तेरी आवाज़ सुनाई दी है
एक परवाज़ दिखाई…

जिसकी आँखों में कटी थी सदियाँ
उसने सदियों की जुदाई दी है
तेरी आवाज़…

सिर्फ़ एक सफ़हा पलट कर उसने
सारी बातों की सफ़ाई दी है
तेरी आवाज़…

फिर वहीं लौट के जाना होगा
यार ने कैसी रिहाई दी है
तेरी आवाज़…

आग में क्या -क्या जला है शब भर
कितनी खुशरंग दिखाई दी है
तेरी आवाज़…

Leave a Reply