करलो माँ की जय जयकार… रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

करलो माँ की जय जयकार…
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

हो जब अम्बे का जगराता, जो माँगो वो ही दे माता,
दुनियाँ के रिश्ते झूठे है, बस सच्चा इसका ही नाता,
आये नवरात्रे माँ के, भक्तो े छाई बहार
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

मेरी माँ का भवन बड़ा प्यारा है, यहाँ सुन्दर हर एक नजारा है,
आये है देवता स्वर्ग छोड़, बोला ऊँचा जयकारा है,
सारे बच्चो पर माता,
बिखराये ममता और प्यार,
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

भक्तो के संकट हर लेती, माँ खाली झोली भर लेती,
जो श्रद्धा से विश्वास करे, मईया उसकी नईया खेती,
सुख से बीते ये जीवन,
वो ना डूबे है मझधार
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

आओ माँ का सम्मान करो, मिलके उसका गुणगान करो,
भी कट जायेगे, बस प्रेम उसका ध्यान करो,
करता है भूलन त्यागी,
माँ जगदम्बे का प्रचार,
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

करलो माँ की जय जयकार…
रंग बरसे माँ के द्वार, करलो माँ की जय जयकार…

 

karalo ma ki jay jayakaar…
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

karalo ma ki jay jayakaar…
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

ho jab ambe ka jagaraata, jo maago vo hi de maata,
duniyaan ke rishte jhoothe hai, bas sachcha isaka hi naata,
aaye navaraatre ma ke, bhakto pe chhaai bahaar
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

meri ma ka bhavan bada pyaara hai, yahaan sundar har ek najaara hai,
aaye hai devata svarg chhod, bola ooncha jayakaara hai,
saare bachcho par maata,
bikharaaye mamata aur pyaar,
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

bhakto ke sankat har leti, ma khaali jholi bhar leti,
jo shrddha se vishvaas kare, meeya usaki neeya kheti,
sukh se beete ye jeevan,
vo na doobe hai mjhdhaar
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

aao ma ka sammaan karo, milake usaka gunagaan karo,
bhi kat jaayege, bas prem usaka dhayaan karo,
karata hai bhoolan tyaagi,
ma jagadambe ka prchaar,
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

karalo ma ki jay jayakaar…
rang barase ma ke dvaar, karalo ma ki jay jayakaar…

 

Leave a Comment