रंग भरा है जी फूलों में, मैया मेरी झूल रही,

रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही,
सोने चांदी के झूलों में।

आई खुशबु बहारों में,
कंचकों संग खेल रही,
मेरी मैया पहाड़ों में,
रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही।

पता पत्ता है जी झूम रहा,
कण कण धरती का
माँ के चरणों को चूम रहा,
रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही।

पत्ता पत्ता है जी हरष रहा,
मैया जी से मिलने को
बच्चा बच्चा है तरस रहा,
रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही।

असा फिर भी आवेंगे,
ान सुपारी नारियल
माँ को भेंट चढांवेंगे,
रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही।

रंग भरा है जी फूलों में,
मैया मेरी झूल रही,
सोने चांदी के झूलों में।

rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi,

 

rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi,
sone chaandi ke jhoolon me.

aai khushabu bahaaron me,
kanchakon sang khel rahi,
meri maiya pahaadon me,
rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi.

pata patta hai ji jhoom raha,
kan kan dharati ka
ma ke charanon ko choom raha,
rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi.

patta patta hai ji harsh raha,
maiya ji se milane ko
bachcha bachcha hai taras raha,
rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi.

asa phir bhi aavenge,
paan supaari naariyal
ma ko bhent chdhaanvenge,
rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi.

rang bhara hai ji phoolon me,
maiya meri jhool rahi,
sone chaandi ke jhoolon me.

Leave a Comment