मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े, वीर वीर बोल तेरा क्या बिगड़े,

मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े,
वीर वीर बोल तेरा क्या बिगड़े,
इस संसार में दम नहीं कब निकले जान मालूम नहीं,
मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े…

सोच समज ले स्वार्थ का संसार,
लाख यत्न कर छूटे न घर बार,
तू जान ले पहचान ले,
संसार किसी का घर नहीं कब निकले दम मालुम नहीं,
मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े…

्रभु वर तो कहते है बाराम बार,
तप सयम  ही जीवन का आधार,
तू जान ले पहचान ले संसार किसी का घर नहीं,
कब निकले जान मालुम नहीं,
मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े…

जिन वर की महिमा है अप्रम पार,
डूभ ती नैया करदो रे भव पार,
तू जान ले पहचान ले संसार किसी का घर नहीं,
कब निकले जान मालुम नहीं,
मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े…

मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े,
वीर वीर बोल तेरा क्या बिगड़े,
इस संसार में दम नहीं कब निकले जान मालूम नहीं,
मीठा मीठा बोल तेरा क्या बिगड़े…

 

meetha meetha bol tera kya bigade,
veer veer bol tera kya bigade,

 

meetha meetha bol tera kya bigade,
veer veer bol tera kya bigade,
is sansaar me dam nahi kab nikale jaan maaloom nahi,
meetha meetha bol tera kya bigade…

soch samaj le svaarth ka sansaar,
laakh yatn kar chhoote n ghar baar,
too jaan le pahchaan le,
sansaar kisi ka ghar nahi kab nikale dam maalum nahi,
meetha meetha bol tera kya bigade…

prbhu var to kahate hai baaram baar,
tap sayam  hi jeevan ka aadhaar,
too jaan le pahchaan le sansaar kisi ka ghar nahi,
kab nikale jaan maalum nahi,
meetha meetha bol tera kya bigade…

jin var ki mahima hai apram paar,
doobh ti naiya karado re bhav paar,
too jaan le pahchaan le sansaar kisi ka ghar nahi,
kab nikale jaan maalum nahi,
meetha meetha bol tera kya bigade…

meetha meetha bol tera kya bigade,
veer veer bol tera kya bigade,
is sansaar me dam nahi kab nikale jaan maaloom nahi,
meetha meetha bol tera kya bigade…

Leave a Comment