दुरंगे इस जमाने से,

मैं हिम्मत हार बैठा हूँ, Bhajan Lyrics

दुरंगे इस जमाने से,
मैं हिम्मत हार बैठा हूँ,
ठोकरें खाके दर दर की,
मैं हो लाचार बैठा हूँ,
चूर सपने हुए सारे,
चली जब वक्त की आंधी,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

जिन्हे हँसना सिखाया था,
उन्होंने ही रुलाया है,
जिनके वास्ते हर पल,
मैंने सबकुछ लुटाया है,
ौंछ आँशु हमेशा ज़ख्म पर,
मरहम लगाया है,
मुसीबत के समय में साथ,
हँसकर के निभाया है,
आज उन सब की नज़रों में,
बना बेकार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

फंसी मजधार में नैया,
किनारा आप बन जाओ,
है चारो ओर अँधियारा,
सितारा आप बन जाओ,
है पांडव कुल के उजियारे,
बड़ी महिमा निराली है,
तो बेबस बेसहारे का,
सहारा आप बन जाओ,
लुटा कर लाज की पूंजी,
सरे बाजार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

बड़ी आशा लगी तुमसे,
मुझे तुम ही उबारोगे,
मेरी कश्ती के बन माँझी,
किनारे पर उतारोगे,
कृपा दृष्टि से जिस दिन आप,
रजनी को निहारोगे,
मेरे जीवन के रखवाले,
ये जीवन तुम संवारोगे,
भरोसे छोड़ कर तेरे,
मैं अब पतवार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

दुरंगे इस जमाने से,
मैं हिम्मत हार बैठा हूँ,
ठोकरें खाके दर दर की,
मैं हो लाचार बैठा हूँ,
चूर सपने हुए सारे,
चली जब वक्त की आँधी,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

दुरंगे इस जमाने से,
मैं हिम्मत हार बैठा हूँ,
ठोकरें खाके दर दर की,
मैं हो लाचार बैठा हूँ,
चूर सपने हुए सारे,
चली जब वक्त की आंधी,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ,
हार के श्याम बाबा मैं,
तेरे दरबार बैठा हूँ…

Watch Bhajan Music video

durange is jamaane se,

mainhimmat haar baitha hoon, Bhajan Lyrics

durange is jamaane se,
mainhimmat haar baitha hoon,
thokaren khaake dar dar ki,
mainho laachaar baitha hoon,
choor sapane hue saare,
chali jab vakt ki aandhi,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

jinhe hansana sikhaaya tha,
unhonne hi rulaaya hai,
jinake vaaste har pal,
mainne sabakuchh lutaaya hai,
paunchh aanshu hamesha zakhm par,
maraham lagaaya hai,
museebat ke samay me saath,
hansakar ke nibhaaya hai,
aaj un sab ki nazaron me,
bana bekaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

phansi majdhaar me naiya,
kinaara aap ban jaao,
hai chaaro or andhiyaara,
sitaara aap ban jaao,
hai paandav kul ke ujiyaare,
badi mahima niraali hai,
to bebas besahaare ka,
sahaara aap ban jaao,
luta kar laaj ki poonji,
sare baajaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

badi aasha lagi tumase,
mujhe tum hi ubaaroge,
meri kashti ke ban maajhi,
kinaare par utaaroge,
kripa darashti se jis din aap,
rajani ko nihaaroge,
mere jeevan ke rkhavaale,
ye jeevan tum sanvaaroge,
bharose chhod kar tere,
mainab patavaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

durange is jamaane se,
mainhimmat haar baitha hoon,
thokaren khaake dar dar ki,
mainho laachaar baitha hoon,
choor sapane hue saare,
chali jab vakt ki aandhi,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

durange is jamaane se,
mainhimmat haar baitha hoon,
thokaren khaake dar dar ki,
mainho laachaar baitha hoon,
choor sapane hue saare,
chali jab vakt ki aandhi,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon,
haar ke shyaam baaba main,
tere darabaar baitha hoon…

Leave a Comment