दर्द बेटे का आँचल में छुपा लेती हैं, याद करे ना करे बेटा माँ बुला लेती हैं,

दर्द बेटे का आँचल में छुा लेती हैं,
याद करे ना करे बेटा माँ बुला लेती हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
अब नसीबा मेरा जगमगाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये,
जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये…

बेटे की पीर को माँ ही तो जाने,
और भला कोई क्या जाने,
बारिश की बूंदो मैं आखियों के नीर को,
बेहते हुए माँ ही पहचाने,
बेटे का दुःख हरने को,
खाली झोली भरने को,
माँ ने दरबार लगाया है,

माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं…

कुछ मांग ना माँ से,
बेटे की आदत हैं,
माँ बिन मांगे ही देती हैं,
बेटे की भूल को पल में भुलाती हैं,
माँ माफ़ी ही देती हैं,
बेटे को गिरने ना दिया,
आकर माँ ने थाम लिया,
और गले भी लगाया हैं,

जय माता दी

माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं…

जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये,
जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये…

ऊँची पहाड़ी पे जगमग वो ज्योति हैं,
माता वही तो होती हैं,
बिन चाँद तारों को सारे नजारों को,
वही उजियारा देती हैं,
माँ ने अपनी क्षमता से,
माँ ने अपनी ममता से,
ये संसार रचाया हैं,

जय माता दी

माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
अब नसीबा मेरा जगमगाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं…

दर्द बेटे का आँचल में छुपा लेती हैं,
याद करे ना करे बेटा माँ बुला लेती हैं,
माता रानी ने मुझे बुलाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
अब नसीबा मेरा जगमगाया हैं,
ये पहाड़ी से संदेश आया हैं,
जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये,
जय हो जय हो शेरावालिये,
जय हो जय हो ज्योतावालीये…

 

dard bete ka aanchal me chhupa leti hain,

dard bete ka aanchal me chhupa leti hain,
yaad kare na kare beta ma bula leti hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
ab naseeba mera jagamagaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye,
jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye…

bete ki peer ko ma hi to jaane,
aur bhala koi kya jaane,
baarish ki boondo mainaakhiyon ke neer ko,
behate hue ma hi pahchaane,
bete ka duhkh harane ko,
khaali jholi bharane ko,
ma ne darabaar lagaaya hai,

maata raani ne mujhe bulaaya hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain…

kuchh maang na ma se,
bete ki aadat hain,
ma bin maange hi deti hain,
bete ki bhool ko pal me bhulaati hain,
ma maapahi hi deti hain,
bete ko girane na diya,
aakar ma ne thaam liya,
aur gale bhi lagaaya hain,

jay maata dee

maata raani ne mujhe bulaaya hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain…

jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye,
jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye…

oonchi pahaadi pe jagamag vo jyoti hain,
maata vahi to hoti hain,
bin chaand taaron ko saare najaaron ko,
vahi ujiyaara deti hain,
ma ne apani kshmata se,
ma ne apani mamata se,
ye sansaar rchaaya hain,

jay maata dee

maata raani ne mujhe bulaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
ab naseeba mera jagamagaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain…

dard bete ka aanchal me chhupa leti hain,
yaad kare na kare beta ma bula leti hain,
maata raani ne mujhe bulaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
ab naseeba mera jagamagaaya hain,
ye pahaadi se sandesh aaya hain,
jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye,
jay ho jay ho sheraavaaliye,
jay ho jay ho jyotaavaaleeye…

Leave a Comment