इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले

इतना तो करना स्वामी जब ्राण तन से निकले – २
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले

श्री गंगा जी का तट हो,
यमुना का वंशीवट हो
मेरा सांवरा निकट हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

पीताम्बरी कसी हो
छवि मन में यह बसी हो
होठों पे कुछ हसी हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

श्री वृन्दावन का स्थल हो
मेरे मुख में तुलसी दल हो
विष्णु चरण का जल हो
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

जब कंठ प्राण आवे
कोई रोग ना सतावे
यम दर्शना दिखावे
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

उस वक़्त जल्दी आना
नहीं श्याम भूल जाना
राधा को साथ लाना
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

सुधि होवे नाही तन की
तैयारी हो गमन की
लकड़ी हो ब्रज के वन की
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

एक भक्त की है अर्जी
खुदगर्ज की है गरजी
आगे तुम्हारी मर्जी
जब प्राण तन से निकले
इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले

ये नेक सी अरज है
मानो तो क्या हरज है
कुछ आप का फरज है
जब प्राण तन से निकले

इतना तो करना स्वामी जब प्राण तन से निकले
गोविन्द नाम लेकर, फिर प्राण तन से निकले

 

itna to karna swami jab praan tan se nikle

itana to karana svaamee jab praan tan se nikale – 2
govind naam lekar, phir praan tan se nikale

shree ganga jee ka tat ho,
yamuna ka vansheevat ho
mera saanvara nikat ho
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

peetaambaree kasee ho
chhavi man mein yah basee ho
hothon pe kuchh hasee ho
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

shree vrndaavan ka sthal ho
mere mukh mein tulasee dal ho
vishnu charan ka jal ho
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

jab kanth praan aave
koee rog na sataave
yam darshana dikhaave
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

us vaqt jaldee aana
nahin shyaam bhool jaana
raadha ko saath laana
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

sudhi hove naahee tan kee
taiyaaree ho gaman kee
lakadee ho braj ke van kee
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

ek bhakt kee hai arjee
khudagarj kee hai garajee
aage tumhaaree marjee
jab praan tan se nikale
itana to karana svaamee jab praan tan se nikale

ye nek see araj hai
maano to kya haraj hai
kuchh aap ka pharaj hai
jab praan tan se nikale

itana to karana svaamee jab praan tan se nikale
govind naam lekar, phir praan tan se nikale

 

Leave a Comment