अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते हैसपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है

अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है
सपने में आ जाना मईया,ये बोल के सोते है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है

थोड़ी सी रहत हो
ूरी ये चाहत हो,
सपने में बात करूँ
इतनी सी इजाजत हो
अँखियों की खिड़की को भी
हम टटोल के सोते है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है

सपने में आये तू
कहीं आँख ना खुल जाए
बाते करते करते दिन रात निकल जाए
इस दुनिया से हर नाता हम तोड़ के सोते है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है

सपना टूटे मेरा,सपने में खो जाऊं
सपने की चाहत में मैं फिर से सो जाऊं
जीवन की सारी इच्छा हम छोड़ के सोते है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है

ये प्रेम हमारा मअबूस इतना बढ़ जाए
सपने में आने की तुझे आदत पद जाए
बनवारी इन हांथो को हम जोड़ के सोते है
अपने दिल का दरवाजा हम खोल के सोते है

apne dil ka darvaja hum n rani sati dadi bhajan by Saurabh Madhukar

apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai
sapane me a jaana meeya,ye bol ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

thodi si rahat ho
poori ye chaahat ho,
sapane me baat karoon
itani si ijaajat ho
ankhiyon ki khidaki ko bhee
ham tatol ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

sapane me aaye too
kaheen aankh na khul jaae
baate karate karate din raat nikal jaae
is duniya se har naata ham tod ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

sapana toote mera,sapane me kho jaaoon
sapane ki chaahat me mainphir se so jaaoon
jeevan ki saari ichchha ham chhod ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

ye prem hamaara maboos itana badah jaae
sapane me aane ki tujhe aadat pad jaae
banavaari in haantho ko ham jod ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai
sapane me a jaana meeya,ye bol ke sote hai
apane dil ka daravaaja ham khol ke sote hai

Leave a Comment